Friday, December 2, 2022
HomeArtPillars of Ashoka,अशोक स्तंभ की खोज और इसके National Emblem बनने की...

Pillars of Ashoka,अशोक स्तंभ की खोज और इसके National Emblem बनने की पूरी कहानी

Pillars of Ashoka, अशोक स्तंभ की खोज और इसके National Emblem बनने की पूरी कहानी

अशोक स्तंभ से जुड़ी कॉन्ट्रोवर्सीज के बारे में तो आपने सुनी ही लिया होगा लेकिन क्या आप ये जानते हैं कि अशोक स्तंभ का इतिहास आखिर क्या है?

अशोक स्तंभ को किसने बनवाया, कैसे इस स्तंभ को खोजा गया? फिर कैसे यह चीन देश का National Emblem और किसने इसे डिजाइन किया और सबसे अहम सवाल कहाँ कहाँ इस चिन्ह का इस्तेमाल नहीं हो सकता अगर आपको भी इन सवालों का जवाब नहीं पता तो चलिए लिए चलते हैं आपको अशोक स्तंभ से जुड़े इतिहास की यात्रा पर

Pillars of Ashoka,अशोक स्तंभ की खोज और इसके National Emblem बनने की पूरी कहानी
Pillars of Ashoka,अशोक स्तंभ की खोज और इसके National Emblem बनने की पूरी कहानी

 

अशोक स्तंभ को भारत के महान सम्राट सम्राट अशोक ने लगभग दो सौ पचास ईसा पूर्व बनवाया था और ऐसा नहीं है कि यह सिर्फ एक अशोक स्तंभ था जो सम्राट अशोक ने बनवाया था उनके द्वारा ऐसे कई स्तंभ बनवाए गए थे जो भारतीय उपमहाद्वीप में फैले उनके राज्य में कई जगह पर लगवाए गए थे खासकर यह स्तंभ बुद्धिस्ट मोनास्ट्री में लगवाए गए और ऐसी जगहों पर जो भगवान बुद्ध से जुड़ी हुई थी इतिहासकारों के मुताबिक सम्राट अशोक ने इन स्तंभों की रचना धर्म स्तंभ के रूप में करवाई थी

यह भी पढे-Top 8 Ancient Universities of India,भारत के 8 ऐतिसासिक विश्वविधालय

आज की बात करें तो सम्राट अशोक के साथ स्तंभ ही प्रमुख मिले हैं इनमें से साँची का स्तंभ मेन है लेकिन इन सभी का डिजाइन अलग अलग है सम्राट अशोक के ये स्तंभ बिहार, उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश और हरियाणा के कुछ हिस्सों में पाए गए इनमें से दो स्तंभों को फिरोजशाह तुगलक द्वारा तेरह सौ इक्यावन से तेरह सौ अट्ठासी ईस्वी के बीच दिल्ली में रिलोकेट किया गया

इनमें से एक पिलर आज भी दिल्ली यूनिवर्सिटी के पास स्थित है, जिसे दिल्ली मेरठ पिलर भी कहा जाता है और एक स्तंभ फिरोजशाह कोटला के पास स्थित है जिसे दिल्ली टोपरा पिलर कहा जाता है हालांकि कहा जाता है कि मुगल काल में भी कई स्तंभों को मुगल शासकों द्वारा एक स्थान से दूसरे स्थान पर ले जाया गया अब जिसे अशोक स्तंभ के चीन को भारत के नेशनल एम्ब्लम के तौर पर चुना गया वो है सारनाथ में खोजा गया अशोक स्तंभ, जिसे मार्च उन्नीस सौ पांच में खोजा गया था

यह भी पढे-Top History of Bihar In Hindi,बिहार का इतिहास

इसकी खोज की कहानी भी काफी दिलचस्प है ब्रिटिशराज पर कई किताबें लिखने वाले मशहूर इतिहासकार चार्ल्स रॉबिन एलन सम्राट अशोक से जुड़ी खोजों पर भी लिख चूके हैं उन्होंने अशोका the सर्च ऑफ इंडिया लास्ट amprav में सारनाथ के अशोक स्तंभ की खोज के बारे में भी बताया है

अपनी इस किताब में वह स् तंभ को खोजने वाले शख्स फ्रेड्रिक ऑस्कर और तेल के बारे में बताते हैं, जो पैदा जर्मनी में हुए थे लेकिन बाद में जर्मन नागरिकता छोड़ भारत आ गए और यहाँ उन्होंने ब्रिटिश नागरिकता ले ली क्योंकि तब भारत ब्रिटिशर्स के ही आधीन था फ्रेड्रिक की बात करें

यह भी पढे-Top 8 Ancient Universities of India,भारत के 8 ऐतिसासिक विश्वविधालय

तो उन्होंने पहले रेलवे में बतौर सिविल इंजीनियर की नौकरी की और फिर लोक निर्माण विभाग में ट्रांसफर ले लिया साल उन्नीस सौ तीन में फ्रेड्रिक का तबादला बनारस हो गया जहाँ से सारनाथ की दूरी महज दस किलोमीटर है फ्रेड्रिक के पास आर्किलॉजी को लेकर किसी तरह की कोई डिग्री नहीं थी लेकिन उनकी रुचि पूरा तत्वों की खोज में थी फ्रेड्रिक ने चीनी यात्रियों की किताबों से ये जानकारी हासिल की कि सारनाथ के पास उन्हें कहा खुदाई करनी चाहिए

Pillars of Ashoka,अशोक स्तंभ की खोज और इसके National Emblem बनने की पूरी कहानी
Pillars of Ashoka,अशोक स्तंभ की खोज और इसके National Emblem बनने की पूरी कहानी

 

अशोक स्तंभ की खोज 

उन्होंने सारनाथ का एक एरिया चिन्हित किया और उन्हें खुदाई की इजाजत भी दे दी गई सबसे पहले उन्हें उस जगह पर गुप्त काल के मंदिर के सबूत मिले जिसके नीचे अशोक काल का एक ढांचा था इतिहासकार के मुताबिक फ्रेड्रिक को पहले स्तंभ का निचला ढांचा मिला और फिर साल उन्नीस सौ पांच में उन्हें स्तंभ का शीर्षक भी मिल गया जिसपर शेरों की आकृति बनी हुई थी

भारत का पहला म्यूजियम

इस खोज को सदी की महान खोजों में से एक माना जाता है जहाँ स्तंभ मिला था, फ़ौरन ही वहाँ म्यूजियम बनाने के आदेश भी दे दिए गए सारनाथ म्यूजियम भारत का पहला ऑन साइट म्यूजियम है आज भी यह अशोक स्तम्भ वहीं रखा गया है खैर, इस खोज से बयालीस साल बाद भारत आजाद हो गया और उन्नीस सौ सैंतालीस में आज़ादी से ऐन पहले यह सवाल उठा कि भारत का राष्ट्रीय प्रतीक या होना चाहिए ऐसे में बाईस जुलाई उन्नीस सौ सैंतालीस को जवाहर लाल नेहरू ने संविधान सभा के सामने प्रस्ताव रखा कि देश के झंडे और राष्ट्रीय प्रतीक के लिए एक डिजाइन बनाया जाना चाहिए

यह भी पढे-दरभंगा में घूमने के 7 जगह Top 7 Most Famous Places In Darbhanga

ऐसे में पंडित नेहरू ने सम्राट अशोक के सुनहरे दौर के शासनकाल की बात कही यही नहीं पंडित नेहरू ने सम्राट अशोक के काल को अंतर्राष्ट्रीय रूप से भारत की छवि को बदल देने वाला भी बताया इसके बाद नेहरू के प्रस्ताव पर सभी नेता एकमत हो गए कि देश के पास एक असरदार राष्ट्रीय प्रतीक होना ही चाहिए और यह भी तय था

कि ये प्रतीक अशोक के दौर से ही लिया जाएगा लेकिन जब देश भर के कला स्कूलों के बनाए चित्र इस कसौटी पर खरे नहीं उतर पाए तब एक आईएएस अफसर बदरुद्दीन तैयबजी की पत्नी सुरैय्या तैयबजी ने अशोक स्तंभ को प्रतीक के तौर पर एक चित्र में उकेरा, जिसे राष्ट्रीय भवन की प्रेस ने कुछ मामूली बदलावों के साथ संविधान सभा के सामने पेश किया और यह प्रतीक सबको पसंद आया लेकिन कागजों दस्तावेज़ों और आपके पासपोर्ट पर जो अशोक स्तंभ आप देखते हैं उसे बनाने का काम प्रख्यात चित्रकार और शांति निकेतन के कला शिक्षक नंदलाल बोस के एक शिष्य दीनानाथ भार्गव ने किया किसी चित्र को उन्होंने संविधान के पहले पन्ने पर भी स्कैच किया था

यह भी पढे-10 Amazing facts about Bihar ,बिहार के बारे में 10 रोचक तथ्य

Pillars of Ashoka,अशोक स्तंभ की खोज और इसके National Emblem बनने की पूरी कहानी
Pillars of Ashoka,अशोक स्तंभ की खोज और इसके National Emblem बनने की पूरी कहानी

दरअसल मौर्य शासनकाल के ये सिंह चक्रवर्ती सम्राट की ताकत को दिखाते थे जब भारत में इसे राष्ट्रीय प्रतीक बनाया गया तो इसके जरिए सामाजिक न्याय और बराबरी की बात भी की गई भारत सरकार ने छब्बीस जनवरी उन्नीस सौ पचास को इस प्रतीक को राष्ट्रीय प्रतीक के तौर पर अपनाया था लगे हाथ आपको अशोक स्तंभ से जुड़े कानून के बारे में भी जान लेना चाहिए

यह भी पढे-Singer Maithili Thakur Biography,मैथिली ठाकुर का जीवन परिचय

अशोक स्तम्भ का इस्तेमाल सिर्फ संवैधानिक पदों पर बैठे हुए व्यक्ति ही कर सकते हैं इसमें भार भारत के राष्ट्रपति, उपराष्ट्रपति, प्रधानमंत्री, केंद्रीय मंत्री, राज्यपाल, उपराज्यपाल, न्यायपालिका और सरकारी संस्थाओं के उच्च अधिकारी शामिल हैं

लेकिन रिटायर होने के बाद कोई भी पूर्व अधिकारी या पूर्व मंत्री, पूर्व सांसद या फिर पूर्व विधायक बिना अधिकार के इस राष्ट्रीय चिह्न का यूज़ नहीं कर सकते हैं इस कानून के तहत अगर कोई आम नागरिक इस तरह अशोक स्तम्भ का इस्तेमाल करता है तो उसे दो वर्ष की कैदऔर पांच हज़ार रुपये तक का जुर्माने की सजा हो सकती है

 

Golden Biharhttps://goldenbihar.com
Mahi is the Author & Co-Founder of the GoldenBihar.com. He has also completed his graduation in Computer Engineering from Delhi
RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments