jhanjharpur se long route ka train kab || झंझारपुर से लंबी दूरी की ट्रेन का लंबा इंतजार

5/5 - (1 vote)

jhanjharpur se long route ka train kab झंझारपुर से लंबी दूरी की ट्रेन का लंबा इंतजार

 झंझारपुर निर्मली का इंतजार बहुत लंबा होता जा रहा है लंबी दूरी की ट्रेन अब तक यहाँ नहीं मिली है वहीं लहेरियासराय और सहरसा वाली ज्योति इन ट्रेन चल रही है वहीं चल रही है लेकिन अब आने वाले दिनों में हो सकता है ये इंतजार जल्द खत्म हो जाए क्योंकि जो बीज है.

jhanjharpur se long route ka train kab

निर्मली के पास या बाकी जगहों पर वो बहुत ही एडवान्स्ड स्टेज में पहुँच गया है ट्रैक बिछाने का काम भी कंप्लीट हो गया है एप्रोच से कनेक्ट कर दिया गया है ट्रक को, लेकिन अभी इसको जो मेन लाइन है उससे कनेक्ट करना बाकी है और उसकी प्रक्रिया चल रही है तो बड़ी चीज़ यह है कि निर्मली के पास बहुत तेजी से काम हो रहा है जो नया ब्रिज बनाया जाना था और उसका जो अप्रोच बनना था नई लाइन बनी थी ताकि जो ट्रेन की रफ्तार है.

Read Also-Top 3 Richest Bhojpuri Star || पवन, खेसारी, निरहुआ में कोन है सबसे अमीर

उसको सौ किलोमीटर से ऊपर चलाया जा सके और आगे जो भविष्य में एक सौ, अस्सी दो सौ की जो टारगेट रखा गया है कि दो सौ किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से ट्रेनें चले सेमी हाइस्पीड ट्रेन उस आधार पर यह ट्रैक को रेडी किया जा रहा है और उसके लिए जरूरी है कि पुल जो है वो मजबूत हो और साथ के साथ ट्रैक भी जो है बहुत ऐडवान्स हो और उसको लेकर के जो है.

jhanjharpur se long route ka train kab

निर्मली के पास अच्छी खबर ये है की जो नया ब्रिज बन रहा था उस ब्रिज को जो है वो बना लिया गया है और उसके साथ साथ अब अप्रोच की जो लाइन है वो भी दिखने लगी है, वो भी बिछने लगी है तो सबसे बड़ी चीज़ ये है की आप इंतजार लंबी दूरी की ट्रेन का है कि आखिर इस लाइन का इस्तेमाल आम पब्लिक को कब मिलेंगे दिल्ली, मुंबई, कोलकाता, पटना जो लंबी दूरी की ट्रेन या फिर जो मांग की जा रही है.

पूर्वोत्तर से जोड़ने की दरभंगा को वाया झंझारपुर सुपौल हो करके वो कब होगा वो देखना अभी बाकी है हालांकि लाइन जो है वो फारबिसगंज के पास अटकी हुई है फारबिसगंज के सीताधार के पास अटकी हुई है लाइन वो क्लियर नहीं हो रही है अभी तक हालांकि बहुत बीच में बहुत तेज़ गति से काम हुआ था लेकिन फिर लगता है जैसे फंड खत्म हो  गया होगा,

Read Also-Hong Kong के खिलाफ जीत के बाद कप्तान Rohit Sharma ने बनाई नई रणनीति

अब जो नया फंड मिलेगा या फिर अगले वित्तीय वर्ष में जो बजट आएगा हो सकता है उसके बाद वो काम सीताधार से आगे बढ़ेगा क्योंकि फिलहाल ये है की निर्मली के पास वो काम दिख रहा था और ये जो ट्रैक बिछाने का काम है, हो रहा है लेकिन उसके बाद एक और अड़चन ये है की विद्युतीकरण का भी जो है काम हो रहा है और वो भी देखना होगा 

क्या विद्युतीकरण के बाद लंबी दूरी की ट्रेन मिले गी या फिर ये जो नया पुल और अप्रोच बन जायेगा उसके बाद लंबी दूरी की ट्रैन  मिलेंगी ये अभी देखना बाकी है लेकिन अच्छी चीज़ ये है केस जो है वो पुल तैयार हो गया है, उसके साथ एप्रोच भी तैयार हो गया है, लेकिन इंतजार अभी तक खत्म नहीं हुआ है इधर के लोगों का की उन्हें जो हैं.

लंबी दूरी की ट्रेन कब मिले गी या फिर जो विस्तारित ट्रेन होनी है या हो सकती है, उसकी सम्भावनाये जो है अभी तक ना टटोली जा रही है, ना खंगाली जा रही है अब देखना होगा कि आने वाले दिनों में ये इंतज़ार मिथिला के इस क्षेत्र का कब समाप्त होता है? लेकिन इतना है की सिर्फ लोग जो है अभी फिलहाल जो पैसेन्जर ट्रेन है उसका  का जो है.

Read Alsoराजनगर नौलखा पैलेस The Story Of No Lakh Place | Rajnager Place Madhubani

वो लाभ ले पा रहे हैं और उसी पर उनकी निर्भरता है लोकल ट्रेनें ही चल रही है और लंबी दूरी की एक्सप्रेस ट्रेनें नहीं चल रही है खास करके जो गुवाहाटी की मांग उठ रही थी कि दरभंगा से गुवाहाटी ट्रेनिंग दे दी जाए वाया झंझारपुर और म धेपुरा सहरसा होकर के कटिहार होकर के वो फिलहाल अभी तक नजर नहीं आ रही है और उस पर कोई विचार नहीं हो रहा है इससे जनप्रतिनिधियों को भी ये मांग और ज़ोर शोर से 

उठाने की जरूरत है जैसे गोड्डा के सांसद उठाते हैं और अपने क्षेत्र में ले जाते हैं ट्रेनों को उस तरीके से मांग उठाने की आवश्यकता है वोहा  के क्षेत्र सांसदों को खास करके रामप्रीत मंडल झंझारपुर के सांसद हैं दरभंगा के साथ साथ जो गोपालजी ठाकुर है, सहरसा के दिलेश्वर कामत है, पूर्णियां के संतोष कुशवाहा है मधेपुरा के सहरसा के जनप्रतिनिधि हैं.

Read Also-sanchita basu biography hindi || सिख लो नाचनियो || Success Story of Sanchita Basu Explained by Goldenbihar.com

उनको ये मांग प्रमुखता से उठाने की आवश्यकता है दिल्ली में रेलमंत्री से रेल मंत्रालय से रेलवे बोर्ड से और तब जाकर हो सकता है उनके कान पे दूर रहेंगे और क्योंकि ये कोई व्यवस्था नहीं है कि जब ट्रैक बन जाएगा ये दूसरा पुल बन जाएगा या फिर कोई विद्युतीकरण हो जाए तब आप नई ट्रेन दें ऐसी व्यवस्था में भी ट्रेनें मिल सकती है जैसे गोड्डा में मीलती है.

jhanjharpur se long route ka train kab

या बाकी जगह जो सांसद जहाँ से करवाना चाहते हैं उनकी पहुँच ज्यादा है, वो दिलवा देते हैं अपनी क्षेत्र में ट्रेन तो यहाँ भी दिलवाया जा सकता है बशर्ते कि उस पर कॉन्स्टेंट ली काम किया जाए, लगा जाए, मिला जाये और उस पर जो है पत्राचार हो और दबाव बने तब जाकर के इस्थिति कुछ यहाँ पर बदल लेगी फिलहाल तो ट्रैक नया बिछ रहा है, पुल भी नया हो रहा है,

Read Also-sanchita basu biography hindi || सिख लो नाचनियो || Success Story of Sanchita Basu Explained by Goldenbihar.com

लेकिन सामने कुछ दिखाई नहीं दे रहा है

Mahi is the Author & Co-Founder of the GoldenBihar.com. He has also completed his graduation in Computer Engineering from Delhi

Leave a Comment

कौन है भोजपुरी की बोल्ड हीरोइन नीलम गिरी भैस चराने से लेकर स्टार बने तक खेसारी लाल यादव पवन सिंह सम्पूर्ण जीवनी मैथिली ठाकुर की जीवनी बिहार का सबसे गरीब जिला कौन है बिहार में इंटरसिटी क्यूं बंद हो रही है बिहार में बना पहला ऐसा अस्पताल जिसका उद्घाटन